सड़क और अन्य परियोजनाओं के लिए भूमि अधिग्रहण करने वाले केंद्र सरकार के अधिकारी कानून पढ़कर उसका पालन करें: डॉ रामेश्वर उरांव

राज्य ब्यूरो रिपोर्ट झारखंड / उमेश सिन्हा

रांची। राज्य के वित्त तथा खाद्य आपूर्ति डॉ रामेश्वर उरांव ने सड़क और अन्य परियोजनाओं के लिए भूमि अधिग्रहण करने वाले केंद्र सरकार के अधिकारियों को यह सलाह दी है कि वे रैयत से जमीन लेने के पहले कानून को ठीक से पढ़े और उसका अक्षरशः पालन करें। आवश्यक परियोजनाओं के लिए जमीन अधिग्रहण के लिए रैयतों को समुचित मुआवजा प्रदान करें। डॉ. उरांव आज बेड़ो में एनएच-23 सड़क चौड़ीकरण और बाईपास के लिए जमीन अधिग्रहण के लिए कम मुआवजा मिलने के खिलाफ कांग्रेस नेता सन्नी टोप्पो के नेतृत्व में आहूत जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

डॉ. रामेश्वर उरांव ने कहा कि वे यहां किसी को भड़काने या उकासने के लिए नहीं आये है, बल्कि 2013 में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के निर्देश पर केंद्र सरकार द्वारा बनाये गये भूमि अधिग्रहण कानून के बारे में जानकारी देने आये है। उन्होंने कहा कि इस कानून में यह प्रावधान है कि केंद्र सरकार की ओर से यदि सड़क, खनन और अन्य जनउपयोगी कार्यां के लिए जमीन अधिग्रहण की जाती है, तो सड़क के किनारे की जमीन की कीमत बाजार दर से चार गुणा अधिक मुआवजा दिये जाने का प्रावधान है,इस कानून को भूमि अधिग्रहण में लगे अधिकारी पहले पढ़े और उसका अक्षरशः पालन कराए, जबकि इस मसले पर वे जनता को भी जागरूक करने यहां पहुंचे है। उन्होंने कहा कि यह क्षेत्र शिड्यूल एरिया में आता है, शिड्यूल एरिया में भूमि अधिग्रहण के लिए कई नियमों का पालन जरूरी है, भूमि अधिग्रहण के पहले ग्राम सभा की अनुमति जरूरी है। इन सारे नियमों का पालन करने के बाद ही जमीन अधिग्रहण होना चाहिए। लेकिन उन्हें यह जानकारी मिली है कि बेड़ो में एनएच चौड़ीकरण और बाईपास के लिए जो जमीन अधिग्रहण के एवज में मुआवजा मिल रहा है, वह काफी कम है। उन्होंने बताया कि हजारीबाग में उनकी पत्नी के नाम पर 25 डिसमिल जमीन थी, उसके एवज में उन्हें 57लाख रुपये का मुआवजा मिला।
इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आलोक कुमार दूबे ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार हड़पने के लिए लगातार कुचक्र रच रही है। पहले इस कानून में ही बदलाव का प्रयास किया गया, लेकिन उसमें विफल होने के बाद तरह-तरह के षड़यंत्र किये जा रहे है, इसके कारण देशभर के किसान आंदोलरत है और अब यहां के रैयतों को भी अपने हक और अधिकार के लिए संघर्ष करने की जरूरत है।
इस मौके पर आदिवासी कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष सन्नी टोप्पो ने कहा कि एनएच-23 सड़क चौड़ीकरण पलता से गुमला पथ सेक्शन में बेड़ो प्रखंड में जमीन अधिग्रहण किया जा रहा है, जिसमें जरिया, पुरियो, बेड़ो, बरीडीह, नगड़ी, ईटा, चिल्दरी, चैरमा, कदोजोरा, हाठु लमकाना और असरो मौजा में 2000 रुपये से लेकर 18 हजार रुपये प्रति डिसमिल का मुआवजा को लेकर नोटिस दिया गया है, जो ग्रामीणों को मंजूर है। यहां अभी जमीन का बाजार दर 3 से 4 लाख प्रति डिसमिल चल रहा है और बाजार दर से चार गुणा अधिक दर पर मुआवजा मिलना चाहिए, जब तक उचित मुआवजा नहीं दिया जाता है, तब तक रैयत अपनी जमीन नहीं देंगे,क्योंकि ग्रामीणों के पास जमीन सीमित है और इसी पर खेतीबारी कर सभी जीवन यापन कर रहे है।
सभा में पदमश्री सीमेन उराँव भी उपस्थित हुए।
सभा का संचालन बेड़ो के उप प्रमुख धनंजय राय ने किया जबकि सभा को संबोधित करने वालों में मुखिया बुधराम बाड़ा,बेड़ो प्रखंड कांग्रेस अध्यक्ष महादेव कुजूर,इटकी प्रखंड कांग्रेस अध्यक्ष सलीम अंसारी, अनमोल विनय कुजूर, मोहम्मद उस्मान खान,सनाउल्लाह मिर्धा,बेड़ो मुखिया सुशांति भगत,बुधराम बाड़ा, इंटक प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश पांडे, कैलाश महतो,सोमरा उराँव,स्वतंत्रता सेनानी की बहू वीणा टाना भगत ने भी संबोधित किया जबकि धन्यवाद ज्ञापन पूर्व विधायक व पूर्व जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गंगा टाना भगत ने किया।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button



जवाब जरूर दे 

सरकार के नये यातायात नियमों से आप क्या है ? जवाब जरूर दे ,

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275
.